अपनी बीमारी बताने के लिए मुझे फोर्स किया गया, अब दर्द सुनकर ताने देते हैं लोग, बोलीं समांथा

इंडिया टुडे कॉनक्लेव 2024 में समांथा ने हसल कल्चर के बारे में भी बात की. साथ ही उन्होंने बताया कि अपनी ऑटो इम्यून बीमारी के बारे में बात करने के लिए उन्हें फोर्स किया गया था. वो खुद इस बारे में बात नहीं करना चाहती थीं. बाद में वो ट्रोल हुईं और उन्हें सिम्पेथी क्वीन बुलाया गया.

समांथा रुथ प्रभु

साउथ एक्ट्रेस समांथा रुथ प्रभु ने फिल्म ‘पुष्पा’ में अपने गाने ऊ अंटावा से देशभर में हलचल मचा दी थी. इसके बाद उन्हें मनोज बाजपेयी की सीरीज ‘फैमिली मैन’ के सीजन 2 में देखा गया. दोनों ही प्रोजेक्ट्स से समांथा को खूब तारीफें मिलीं. इंडिया टुडे कॉनक्लेव में शिरकत कर समांथा रुथ प्रभु ने अपने दोनों प्रोजेक्ट्स संग हेल्थ इश्यू सी जूझने को लेकर बात की.

डर की वजह से बढ़ी आगे

समांथा को फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा बने 14 साल हो गए हैं. करियर की शुरुआत उन्होंने बतौर आउटसाइडर की थी. इवेंट में उन्होंने कहा, ’14 साल कभी-कभी बहुत लंबा वक्त लगता है. लेकिन जब आप जिस चीज से प्यार करते हैं, वो करें तो वक्त कब निकल जाता है पता ही नहीं चलता. वो लड़की मुझे याद भी नहीं है. मुझे लगता है कि बहुत लंबे वक्त तक मैं फिट इन करना चाहती थीं. मैं डरी हुई थी. फेल होने के डर ने मुझे बहुत वक्त तक आगे बढ़ाया. अगर वो डर नहीं होता तो शायद मैं इतना आगे निकल नहीं पाती.’

एक्ट्रेस के मुताबिक, उनके डर ने उन्हें आगे तो बढ़ाया लेकिन उनके शरीर को कमजोर भी किया. समांथा प्रभु ने कहा, ‘कुछ वक्त पहले ही जब मैं बीमार हुई तब मुझे समझ आया कि डर मुझे मोटिवेट तो कर रहा था, लेकिन साथ ही मुझे बर्बाद भी कर रहा था. मेरी ऑटो इम्यून कंडीशन से लगभग दो सालों तक गुजरने के बाद मैंने सोचा कि चीजें अगर मुझे अलग तरह से मिलती तो मुझे नहीं चाहिए.’

5 घंटे सोती थीं समांथा

इंडिया टुडे कॉनक्लेव 2024 में समांथा ने हसल कल्चर के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा, ‘हसल कल्चर में हम बहुत घुसे हुए हैं. मैं बहुत हसल करती थी. मैं सिर्फ 5 घंटे सोती थी. हसल कल्चर में जो नहीं बताया जाता वो ये है कि अगर आप खुद को आराम दे रहे हैं तो उससे आपको ही फायदा होगा. जो मैं नहीं करती थी. मैं अपने शरीर और दिमाग को आराम नहीं दे रही थी. मैंने बैक टू बैक हिट फिल्में दी हैं. लेकिन वही वो वक्त भी था जब मैं सबसे ज्यादा दुखी थी. अपने करियर के हाई पर मैं इंपोस्टर सिंड्रोम से जूझ रही थी. मुझे डर लगता था कि मैं फेल न हो जाऊंगी. मैंने फिल्म के हिट होने पर हमेशा कहा कि फिल्म हिट डायरेक्टर, स्क्रिप्ट और स्टार्स की वजह से हुई. मैंने खुद को सफलता के लायक माना ही नहीं. लेकिन अब मैंने खुद को अपने जैसा होने की इजाजत दे दी है. अब मुझे लगता है कि मेरा वक्त आ गया है.’

बीमारी के बारे में बात करने पर किया फोर्स

अक्टूबर 2022 में समांथा प्रभु ने अपनी बीमारी का खुलासा किया था. इसके बारे में उन्होंने कहा, ‘मुझे अपनी बीमारी के बारे में बात करने के लिए फोर्स किया गया था. एक फीमेल सेंटरिक फिल्म मैंने की थी, जो रिलीज होने वाली थी और मैं उस वक्त बहुत बीमार थी. वो वक्त था जब मैं बाहर आने के लिए तैयार नहीं थीं. और हर तरह की अफवाहें मेरे बारे में रही थीं. प्रोड्यूसर चाहते थे कि मैं प्रमोशन करूं वरना फिल्म पिट जाती. मैंने एक इंटरव्यू करने का फैसला किया था. मैं अपने जैसी दिख भी नहीं रही थी. अगर मुझे चॉइस दी जाती तो मैं बीमारी के बारे में बात भी नहीं करती. मैं इतनी जल्दी बाहर नहीं आती.’

ट्रोल्स ने बुलाया सिम्पेथी क्वीन

अपनी बीमारी के बारे में बात करने पर समांथा को ट्रोल्स का सामना भी करना पड़ा था. इसपर उन्होंने कहा, ‘मुझे सिम्पेथी क्वीन बोला गया था. मुझे पता है. लेकिन मेरे लिए मेरी जर्नी एक एक्टर के तौर पर, एक इंसान के तौर पर मैंने इस बिजनेस से बहुत कुछ सीखा है. एक वक्त था जब मैं उठती थी और सोचती थी कि किसने मेरे बारे में क्या कहा, क्या आर्टिकल लिखा है. लेकिन अब मैं सोचती हूं कि अगर ज्यादा लोग मुझपर इल्जाम लगाते हैं तो… पहले मैंने अपने हर एक्शन को जज करना शुरू कर दिया था. लेकिन अब अगर आप मेरे बारे में कुछ सोचते हैं तो मुझे फर्क नहीं पड़ता. मुझे लगता है कि जब आप दर्द में होते हैं तो आपको टारगेट चाहिए होता है. मुझे लगता है कि लोग एक छोटे से कमेंट से अपने दर्द को बाहर निकालते हैं.’

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top